Saturday, May 14, 2022
HomeCentral Government SchemesPradhan Mantri Gramin Ujala Yojana 2021

Pradhan Mantri Gramin Ujala Yojana 2021

 

अंधकार हमारे जीवन में नकारात्मक सोच एवं ऊर्जा लेकर आता है | यही कारण है की इसे दूर करने के लिए हम उजाला करते है और उस अंधकार को भगाते है | उजाला हमारे जीवन का एक अंग बन गया है जिससे हम दूर नहीं रह सकते | कोई भी कार्य करने के लिए हमें उजाले की आवश्यकता होती है फिर चाहे वो पढ़ने का कार्य हो या ऑफिस में कार्य हो | बड़े बड़े शहरों में उजालों की चकाचौंध फिर भी देखने को मिल जाती है किन्तु अक्सर गांवो में ये नजारा देखने नहीं मिलता | 

केंद्रीय ऊर्जा मंत्री श्री आर के सिंह जी ने 19 मार्च 2021 को न्यूनतम मूल्यों पर LED बल्ब देने के लिए प्रधानमंत्री ग्राम उजाला योजना 2021 को शुरू किया है | प्रधानमंत्री ग्राम उजाला योजना के माध्यम से सरकारी कंपनी एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड की सब्सिडियरी यूनिट कन्वर्जन एनर्जी सर्विसेज लिमिटेड अधिकांश ग्रामीण घरों में 10 रुपए प्रति बल्ब की दर से LED बल्ब दे रही है | गांवो के अधिकांश लोग हाई वोल्टेज के पुराने बल्ब का उपयोग ज्यादा कर रहे है क्योंकि गांवो के लोगो की यह सोच होती है की LED बल्ब बहुत महंगा होगा | वो ये नहीं सोचते की इन LED बल्ब का बिल कम आता है और हाई वोल्टेज पुराने बल्ब का ज्यादा | उनकी इसी सोच को बदलने के लिए और सभी घरों में उजाले की एक रौशनी लाने के लिए सरकार ने प्रधानमंत्री ग्राम उजाला योजना को शुरू किया है |   

प्रधानमंत्री ग्राम उजाला योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों के परिवारों को 10-10 रुपए में LED बल्ब दिए जायेंगे | इस योजना के माध्यम से प्रत्येक परिवार को 3-4 LED बल्ब ही दिए जायेंगे | योजना के तहत बिजली बिल में कमी आएगी जिससे लोगों की बचत बढ़ेगी | इस योजना के माध्यम से 15 से 20 करोड़ लाभार्थियों को 60 करोड़ LED बल्ब दिए जायेंगे | इस योजना के अंतर्गत गांवो के परिवारों को 7 वाट और 12 वाट के LED बल्ब के लिए सिर्फ 10 रुपए देना होगा और साथ ही आपको पुराना बल्ब भी देना होगा | प्रधानमंत्री ग्राम उजाला योजना के अंतर्गत एक व्यक्ति को ज्यादा से ज्यादा 5 LED बल्ब की ही अनुमति है और साथ ही उन्हें अपने पुराने बल्ब भी जमा कराने होंगे और मीटर भी लगा होना चाहिए |     

बचत : प्रधानमंत्री ग्राम उजाला योजना को चरणबद्ध तरीके से लागू किया गया है जिसमे सूचि में सबसे पहले उत्तर प्रदेश का वाराणसी है, उसके बाद बिहार का आरा है, फिर महाराष्ट्र का नागपुर है, इसके बाद गुजरात का वडनगर और फिर आंध्रप्रदेश का विजयवाड़ा शामिल है | धीरे – धीरे इस योजना को अप्रैल माह तक पूरे भारत में लागू कर दिया जायेगा | प्रधानमंत्री ग्राम उजाला योजना की मदद से लगभग 9324 करोड़ यूनिट प्रत्येक वर्ष बिजली की बचत होगी और साथ ही 7.65 करोड़ टन प्रत्येक वर्ष कॉर्बन के उत्सर्जन में कमी भी आएगी | इस योजना के माध्यम से प्रत्येक वर्ष लगभग 50000 करोड़ रुपए की बचत होगी | इस योजना के लिए केंद्र एवं राज्य सरकार से किसी भी प्रकार की कोई सब्सिडी नहीं ली जाएगी जबकि जो भी खर्च आएगा वह EESL करेगी | साथ ही इस योजना की कीमत की प्राप्ति कार्बन ट्रेडिंग के तहत की जाएगी |      

क्रियान्वयन : प्रधानमंत्री ग्राम उजाला योजना को चरणबद्ध तरीके से लागू किया गया है जिसमे सूचि में सबसे पहले उत्तर प्रदेश का वाराणसी है, उसके बाद बिहार का आरा है, फिर महाराष्ट्र का नागपुर है, इसके बाद गुजरात का वडनगर और फिर आंध्रप्रदेश का विजयवाड़ा शामिल है जिसमें काफी न्यूनतम दरों पर LED बल्ब प्रदान किये जाएंगे | प्रधानमंत्री ग्राम उजाला योजना को पूरी तरह कार्बन क्रेडिट की मदद से फाइनेंस किया जायेगा | 

विशेषताएं :

  • प्रधानमंत्री ग्राम उजाला योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों के परिवारों को 10-10 रुपए में LED बल्ब दिए जायेंगे | 
  • इस योजना के माध्यम से प्रत्येक परिवार को 3-4 LED बल्ब ही दिए जायेंगे |
  • इस योजना को अप्रैल माह तक पूरे भारत में लागू कर दिया जायेगा |
  • इस योजना के माध्यम से 15 से 20 करोड़ लाभार्थियों को 60 करोड़ LED बल्ब दिए किये जायेंगे | 
  • प्रधानमंत्री ग्राम उजाला योजना की मदद से लगभग 9324 करोड़ यूनिट प्रत्येक वर्ष बिजली की बचत होगी और साथ ही 7.65 करोड़ टन प्रत्येक वर्ष कॉर्बन के उत्सर्जन में कमी भी आएगी |
  • इस योजना के माध्यम से प्रत्येक वर्ष लगभग 50000 करोड़ रुपए की बचत होगी |
  • इस योजना के लिए केंद्र एवं राज्य सरकार से किसी भी प्रकार की कोई सब्सिडी नहीं ली जाएगी जबकि जो भी खर्च आएगा वह EESL करेगी |
  • इस योजना की कीमत की प्राप्ति कार्बन ट्रेडिंग के तहत की जाएगी |  
  • प्रधानमंत्री ग्राम उजाला योजना की मदद से बिजली बिल में कमी आएगी जिससे लोगों की बचत बढ़ेगी | 

लाभार्थी कैसे ले लाभ : केंद्र सरकार के द्वारा पॉवर एंड रिन्यूएबल एनर्जी की मदद से ग्राम उजाला योजना को शुरू किया गया है | प्रधानमंत्री ग्राम उजाला योजना को चरणबद्ध तरीके से लागू किया गया है जिसमे सूचि में सबसे पहले उत्तर प्रदेश का वाराणसी है, उसके बाद बिहार का आरा है, फिर महाराष्ट्र का नागपुर है, इसके बाद गुजरात का वडनगर और फिर आंध्रप्रदेश का विजयवाड़ा शामिल है | धीरे – धीरे इस योजना को अप्रैल माह तक पूरे भारत में लागू कर दिया जायेगा | हालाँकि अभी तक इस योजना के अन्तर्गत कोई भी LED बल्ब वितरण की आधिकारिक सूचना नहीं मिली है | CESL के द्वारा किसी भी प्रकार की जानकारी देने पर हम आपको इस लेख के माध्यम से सूचित करेंगे | 

उद्देश्य : प्रधानमंत्री ग्राम उजाला योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में एनर्जी एफिशिएंसी को पहुँचाना है | इस योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों के परिवारों को 10-10 रुपए में LED बल्ब दिए जायेंगे | इस योजना के माध्यम से प्रत्येक परिवार को 3-4 LED बल्ब ही दिए जायेंगे | प्रधानमंत्री ग्राम उजाला योजना के तहत बिजली बिल में कमी आएगी जिससे लोगों की बचत बढ़ेगी | इस योजना के माध्यम से 15 से 20 करोड़ लाभार्थियों को 60 करोड़ LED बल्ब वितरित किये जायेंगे |

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments